...

22 Reads

दिल के तमाशे भी देखो क्या ख़ूब होते हैं ,
दर्द-ए-हिज्र सहते हैं ,फिर भी जीते हैं !
ख़लिश जो ज़िन्दगी भर को रह जाती है ,
तिश्नगी मोहब्बत की उम्र भर रखते हैं !

दर्द-ए-हिज़्र-जुदाई का दर्द
ख़लिश -चुभन
तिश्नगी-आरज़ू
#WritcoQuote
#Love&love