...

4 views

चंद अशार
कहने को ये सारी दुनिया यारी का दम भरती है
तुम जब अकेले होते होंगे, अकेले ही मर जाते होंगे

मुकाम बनाने की खातिर हम, सभी से तो लड़ लिए
अब जो सँवरते होंगे सुबह, खुद पे रो जाते होंगे


© AbhinavUpadhyayPoet

Related Stories