...

3 views

इधर उधर कुछ नही कहा
इधर उधर कुछ नही कहा
लेकिन फिर भी वो रहती है खफा
थी उसके लिए मैं भी जरूरी
है बात अब भी अधूरी

रोज आता है ये दिन
जो अधूरा है तेरे बिन
वो दिन रहे हमेशा याद
बस यही है फरियाद
© palupuchi