...

3 views

यादो की क़ैदी
एक हसीन क़ैद सी है याद तेरी,

मैं ताउम्र क़ैदी रहना चाहती हूँ,

तुम शहजा़दे हो मेरी फ़लक के,

मैं तुम्हारी शहज़ादी रहना चाहती हूं।


तेरी यादो की क़ैद में मुक्कमल सुकून मयस्सर है मुझे,

मैं प्यार भरे लम्हों की चमचमाती सफ़ेदी देखना चाहती हूँ,

ताउम्र तेरी यादो की क़ैदी रहना चाहती हूँ।


टिप टिप टिप लहू सी बहती हैं यादें तेरी

मेरे रोम रोम में,

मैं ख़ुद अपनी हितैषी रहना चाहती हूं,

ताउम्र तेरी यादो की क़ैदी रहना चाहती हूँ।


भावनाओं का इक पूरा जहां है यादों में तेरी,

इस दुनिया ए फानी से बहुत दूर,

उस जहाँ में फ़ना हो जाने की

मैं चुनौति लेना चाहती हूं,

ताउम्र तेरी यादों की क़ैदी रहना चाहती हूँ।


कभी-कभी समझ नहीं पाती कि किस राह की बाशिंदगी मिली है मुझे,

फ़िर भी मंजि़लों से वफ़ा नहीं निभा पाती हूँ,

तेरी यादों की छाओं तले चलते रहना चाहती हूँ,

हांँ मैं तेरी यादों की कैदी रहना चाहती हूंँ।
AAPKI SEHZADI💞🥀🍂
© Haniya kaur