...

23 views

अब खुद को दफनाना है ..
खुद को पत्थर बनाना है
इस मासूमियत को मिटाना है
खुद को बदल कर
एक नई शक्सियत बनाना है

जरा खुद को बदलना है
इस बेरहम दुनियां को समझना है
दिल को दर किनार कर
दीमाक से सोचना स्टार्ट करना है

खुद को बुरा बनाना है
बुरे लोगो से बचाना है
कुछ पाने की खातिर
खुद को गवाना है

खुद को कुछ अलग बनाना है
कुछ ख्वाबों को पाना है
किसी की चाहत में ना
अब खुद को दफनाना है