...

10 views

क्यों तुम इतनी अच्छी होती जाती हो
यू तो तुम सोच कर हताश हो जाती हो
लेकिन बताने में फिर भी जैसे शर्माती हो
जब मैं रुकती हु तो खुद ही आगे आगे चली जाती हो
फिर कहती तो हो तुम चली जाती हो
क्यू तुम इतनी हताश हो जाती हो
क्यू तुम कुछ नही बताती हो
यू तो इतनी खुदगर्जी है तुम में लेकिन
फिर भी हर बार हमदर्द बन जाती हो
लेकिन फिर भी बोलता
क्यू तुम इतनी अच्छी होती जाती हो
© palupuchi