...

31 views

🥭 अहा! आम आ गए!🥭
आई
ग्रीष्म ऋतु,
ना ना आम्रऋतु,
नवपल्लव, नव कोंपल,
डाली पर कूके कोयल चपल,
डाल डाल पर इठलाए बन अत्यंत चंचल,
🥭
देखो,
बाल गोपाल,
टिल्लू, राजू, बबलू
हरिया, लल्लू और शंकर,
लिए गुलेल और मुट्ठी भर कंकर,
करते चोट सटासट गिराते आम भर-भर कर,
😃
माली,
देखो बकता
गाली भांति-भांति की,
दौड़े पीछे पीछे ले लाठी बांस की,
तितर-बितर बाल गोपाल राह जा पकड़ी,
घर के भीतर की, अम्मां के शीतल आंचल की,
😃
ठूंसा,
अम्मां ने
पल्लू साड़ी का,
सिर पर पैर रखकर भागे
माली, मानो स्वयं यमराज आ गए,
और घर के पिछवाड़े में बैठकर चटाई पे,
मनमौजी बालक मिलकर सारे आम खा गए!
🤣🤩🤣😃
— Vijay Kumar
© Truly Chambyal