...

1 views

बेवफ़ाई की कीमत
कुछ भी करने लिए, फ़ुरसत तो होंगें तुम्हारे पास जरुर…
पर इतराने के खातिर, कोई वजह न बाकी होगी तुममें।
कुछ कहने के लिए, दिलमें हसरत तो होंगें बड़े जरुर…
पर हक जताने लिए, कोई मोहब्बत न बाकी होगी हममें।।

नजरिए से तुम्हारे, हमने हर छलावे को लिया था सच मान,
पर बेनकाबी से... उन बेवफ़ाईयों को तुम्हारे, हमने गया था जान।
अपना कहने से पहले, हमें अपना हमराज़ ही बना लिया होता,
वाकेयात जो अबतक हुआ है, शायद इतना गम न दिया होता।।

कुछ भी करने लिए, फ़ुरसत तो होंगें तुम्हारे पास जरुर…
पर इतराने के खातिर, कोई वजह न बाकी होगी तुममें।
कुछ कहने के लिए, दिलमें हसरत तो होंगें बड़े जरुर…
पर हक जताने लिए, कोई मोहब्बत न बाकी होगी हममें।।

माफी के लायक नहीं होंगे कभी, जो गुनाहें हुए हैं तुमसे…
अपनी पलकों में सजालेना मुझे, शायद ही कह पाओगी तुम हमसे।
मदहोशी में बहकने के लिए, शराब तो होंगे तुम्हारे पास जरुर …
पर शबाब... हम जैसा, और न मिल पायेगा कभी भी तुमसे।।

कुछ भी करने लिए, फ़ुरसत तो होंगें तुम्हारे पास जरुर…
पर इतराने के खातिर, कोई वजह न बाकी होगी तुममें।
कुछ कहने के लिए, दिलमें हसरत तो होंगें बड़े जरुर…
पर हक जताने लिए, कोई मोहब्बत न बाकी होगी हममें।।

#फुर्सत #इतराने #हसरत #मोहब्बत #छलावा #पर्दाफाश #बेवफ़ाई #हमराज़ #वाकेयात #मदहोश

© सराफ़त द उम्मीदभरे क़लाम