...

3 views

रहने-दिया

जो छूटा जहां उसको वही रहने दिया,
सोचा नहीं जो हुआ उसे होने दिया;
थम जाएं ऐसों से ख़ुद न मिलने दिया,
मैंने खुद के एहसासों को खुद में ही कैद कर लिया,
कभी किसी के सामने ना आने दिया,
मेरे अंदर कितना दर्द है ये मैं जानती हूं,
सबको मेरी मुस्कान से धोखे में रहने दिया,
मैंने सोचा था खुद को खत्म कर दूं,
फिर कुछ लोग के लिए इन सांसों को चलने दिया...
© Diary_of_feelings

#रहने-दिया #feelings