...

5 views

"उदासी के भँवर"
ये उदासी के भँवर पार करने हैं,
ग़मों पे खुशियों के वार करने हैं..!

मेहरबाँ है मोहब्बत ख़ुश रहने वालों पर,
क्यों दुःख के अँधेरे फिर यार करने हैं..!

ख़ूबसूरत है हर एक सफ़र,
लुत्फ़ हसीं नज़रों के यार करने हैं..!

सुर्ख़ियों में रहें सदा किस्से,
दुःख कम सुख आये ज्यादा हिस्से..!

ख़ुशनुमा ज़िन्दगी के किरदार,
हर बार बेहतरीन दमदार करने हैं..!
© SHIVA KANT