...

7 views

नाव
बरसती हुई धूप में

बढ़ते ताप में
बहते संताप में

शीतल सी...
ठंडी सी....छाँव हो तुम....

मेरी मंजिल हो
मेरे साहिल हो....

लहर में
भंवर में

मेरे मंझदार की कश्ती
मेरी तरुणी सी तरणी

मेरी स्वप्निल सी नाव हो तुम...