...

3 views

रात
न जाने कितने रंग
साथ लाई है।
ये रात तारों की बारात संग लिए आई है
हर तरफ बस चांदनी ही चांदनी है ।
खुबसूरती को समेटे ये
सबकी थकान भगाने को आइ है
सबको हंसाने को आई है
ये तारो की जगमगाहट से भरी रात आई है।