...

1 views

तुम

तेरी आँखो ने जो आँसू छिपाये हैं
कल उनको खूब बरसाऊंगा मैं
तेरे बिस्तर की बेचैन सी करवटों में
बनके अकेलापन खूब सताऊँगा मैं
रो रो कर मुझे पुकारोगे तो बहुत
पर कभी नजर नहीं आऊंगा मैं
कोशिश तो थी तेरा ख़याल रखूँ
तेरे साथ रहूँ, तुझे खुश रखूँ,
पर सचमुच बहुत याद आऊंगा मैं
श्रृंखला में मोतियों सा
बांध कर रखा था खुद को
तुम डोर सी टूटी हो
अब बिखर जाऊँगा मैं
सोचा जो था तेरे माथे को
अपने कंधे पर टिकाकर
बांहों में अपनी सुलाऊँगा मैं
तेरे मोबाइल की घंटी में
और मैसेज की धुन में
ढूँढना मुझे बार बार
पर नजर नहीं आउंगा मैं
मुबारक हो तुमको
तुम्हारे अपने और सपने
अभी व्यस्त हो,व्यस्त रहो
पर फुरसत में बहुत रुलाऊँगा मैं...