...

4 views

तीर ए नज़र...❤️
लालसा_की_प्रतिध्वनि

..तीर ए नज़र किस कद्र धारदार हैं !
चला ही नहीं दिल के आर पार हैं !!

न तो उधर मौत हैं न इधर ज़िंदगी !
हर तरफ यलगार ही यलगार हैं !!

उधर से तो खत का कोई जवाब नहीं !
इधर दिल की हर रग तार तार हैं !!

दिल की आड़ में जिस्म का कारोबार !
सरेआम हैं और सरेबाजार हैं !!

निज़ाम में दहशतगर्दो के लिए अब तो !
हर तरफ़ रोज़गार ही रोज़गार हैं !!

~P.s